Latest Popular Random
न जाने क्या मासूमियत है तेरे चेहरे पर… तेरे सामने आने से ज़्यादा तुझे छुपकर देखना अच्छा लगता है …!!!

3
तेरे इश्क से मिली है मेरे वजूद को ये शौहरत ,मेरा ज़िक्र ही कहाँ था तेरी दास्ताँ से पहले।

1
वो जो सर झुकाए बैठे हैं, हमारा दिल चुराए बैठे हैं… हमने कहा हमारा दिल लौटा दो,वो बोली- हम तो हाथो में मेहँदी लगाये बैठे हैं….

2
सारा बदन अजीब से खुशबु से भर गया शायद तेरा ख्याल हदों से गुजर गया..

2
तरस गए हैं तेरे लब से कुछ सुनने को हम…… प्यार की बात न सही कोई शिकायत ही कर दे…

1
बाज़ार के रंगों से रंगने की मुझे जरुरत नही, किसी की याद आते ही ये चेहरा गुलाबी हो जाता है..

1
कागज़ों पे लिख कर ज़ाया कर दूं, मै वो शख़्स नही..वो शायर हुँ जिसे दिलों पे लिखने का हुनर आता है..

1
क्यो ना गुरूर करू मै अपने आप पे….मुझे उसने चाहा जिसके चाहने वाले हजारो थे!

1
होती नहीं है मोहब्बत सूरत से;मोहब्बत तो दिल से होती है;सूरत उनकी खुद-ब-खुद लगती है प्यारी;कदर जिनकी दिल में होती है।

3
धडकनों को कुछ तो काबू में कर ऐ दिल, अभी तो पलके झुकाई है, मुस्कुराना बाकी है उनका ।।

2
जान लेने पे तुले हे दोनो मेरी..इश्क हार नही मानता..दिल बात नही मानता

2
उसे बारिश‬ ☂ मे भीगना अच्छा लगता है ओर ‪‎मुझे‬ सिर्फ़ बारिश मे भीगती हुयी ‪‎वो‬

2
मेरे इस दिल को तुम ही रख लो,बड़ी फ़िक्र रहती है इसे तुम्हारी..!

1
यूँ तो आदत नहीं मुझे मुड़ के देखने की..तुम्हें देखा तो लगा..एक बार और देख लूँ

1
कहतें हैं कि मोहबत एक बार होती है..पर मैं जब जब उसे देखता हूँ..मुझे हर बार होती है॥

2
प्यार अगर सच्चा हो तो कभी नहीं बदलता न वक़्त के साथ न हलात के साथ

2
तुम मुझे अच्छे या बुरे नहीं लगते बस अपने लगते हो।

1
काश…!! एक खवाहिश पूरी हो इबादत के बगैर…!!! वो आ कर गले लगा ले…..मेरी इजाजत के बगैर!!!!!

5
क्या ऐसा नहीं हो सकता हम प्यार मांगे… और तुम गले लगा के कहो, “और कुछ?”

2
लोग हर बार यही पूछते हैं तुमने उसमें क्या देखा , मैं हर बार यही कहता हूँ , बेवजह होती है मोहब्बत।

1
पहले तो यूं ही गुज़र जाती थीं , मोहोब्बत हुई… तो रातों का एहसास हुआ..।।

1
वो शाम का दायरा मिटने नहीं देते , हमसे सुबहे का इंतज़ार होता नहीं है ।

1
दिल मे छूपा रखी.. है मुहब्बत काले धन की तरह… खुलासा नही करता हू कि कही हंगामा ना हो जाये.

3
मेरी दिल की दिवार पर तस्वीर हो तेरी.. और तेरे हाथों में हो तकदीर मेरी।

2